[ad_1]

बर्लिन

जर्मनी के एक स्‍कूल में 11 साल के एक बच्‍चे ने अपनी ही टीचर की गला काटने की धमकी देकर सबको दहशत में डाल दिया। इस जर्मन बच्‍चे ने कहा कि पैगंबर मोहम्‍मद साहब का अपमान करने वाले व्‍यक्ति की हत्‍या करना जायज है। यह घटना उस समय हुई जब पिछले महीने फ्रांसीसी टीचर सैमुअल पैटी की हत्‍या की याद में जर्मनी के स्‍कूल में एक मिनट की शोक सभा का आयोजन किया गया था।

इस बच्‍चे ने उस समय गला काटने की धमकी दी जब शिक्षकों ने चेतावनी दी थी कि यदि पैरंट्स अपने बच्‍चों के शिक्षकों के साथ मीटिंग करने में असफल रहते हैं तो उन्‍हें इसके परिणाम भुगतने होंगे। जर्मन स्‍कूल में फ्रांसीसी शिक्षक की हत्‍या की याद में एक मिनट की शोक सभा का आयोजन किया गया था। इस दौरान मुस्लिम बच्‍चे ने धमकी दी, ‘जो पैगंबर का अपमान करता है, उसकी हत्‍या करने की आपको अनुमति है। यह ठीक है।’

‘मैं वैसा ही करूंगा जैसे पेरिस में बच्‍चे ने अपने टीचर के साथ किया’
छात्र के इस धमकी के बाद जब स्‍कूल के हेडमास्‍टर ने बच्‍चे के पैरंट्स को अलर्ट करने के लिए बुलाया तो बच्‍चे की मां ने जोर देकर कहा कि उनका परिवार इस तरह की विचारधारा को नहीं मानता है। मां ने कहा कि निश्चित रूप से उनके बच्‍चे ने इस तरह के अतिवादी विचार को स्‍कूल में ही सीखा होगा। धमकी देने की यह घटना राजधानी बर्लिन के स्‍पान्‍दाउ इलाके में स्थित क्रिश्चियन मोर्गेनस्‍टर्न प्राइमरी स्‍कूल की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्‍कूल की टीचर ने पैरंट्स के साथ मीटिंग पर जोर दिया था। उन्‍होंने क्‍लास से कहा था कि यह बैठक महत्‍वपूर्ण है और इस दौरान समस्‍याओं को उठाया जाएगा। टीचर ने यह भी कहा था कि इस मीटिंग में जो भी हिस्‍सा नहीं लेगा, उसे इसके परिणाम भुगतने होंगे। इसके जवाब में बच्‍चे ने कहा, ‘अगर मेरे पैरंट्स के नहीं आने पर ऐसा हुआ तो मैं वैसा ही करूंगा जैसे पेरिस में बच्‍चे ने अपने टीचर के साथ किया था।’

पैटी ने लेक्‍चर के दौरान पैगंबर मोहम्‍मद साहब के कार्टून दिखाए
जर्मन बच्‍चे का इशारा 18 साल के चेचेन मूल के बच्‍चे अब्‍दोउलाख अंजोरोव की ओर था। अंजोरोव ने ही 16 अक्‍टूबर को फ्रांसीसी टीचर पैटी की हत्‍या कर दी थी। पैटी ने फ्री स्‍पीच के एक लेक्‍चर के दौरान पैगंबर मोहम्‍मद साहब के विवादास्‍पद कार्टून दिखाए थे। इसके बाद पूरे मुस्लिम जगत में इसकी कड़ी आलोचना शुरू हो गई थी। फ्रांस के राष्‍ट्रपति ने पैटी की प्रशंसा की थी और उन्‍हें ‘हीरो’ करार दिया था।