अंतरिक्ष में कई उल्कापिंड टूटकर इधर-उधर घूमते रहते हैं। लेकिन हमारे लिए खतरा तब बढ़ जाता है जब ये पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरने वाले होते हैं। इससे भूकंप और तूफान जैसे खतरों की आशंका रहती है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक ऐसा ही एक उल्कापिंड धरती की ओर तेजी से बढ़ रहा है जो 24 जुलाई को धरती के सबसे नजदीक होगा। इस उल्कापिंड की गति 13.5 किलोमीटर प्रति सेंकेंड है और इसका आकार मशहूर ‘लंदन आई’ से भी 50 गुना ज्यादा बड़ा है।

इसका नाम 2020 एनडी है। इस खगोलीय घटना को 24 जुलाई को देखा जा सकेगा। आमतौर पर मंगल और गुरु ग्रह की कक्षा के बीच में ऐसे उल्कापिंड बड़ी संख्या में पाए जाते हैं, लेकिन इनमें पृथ्वी के पास से गुजरने वाले उल्कापिंडों की संख्या कम होती है। ऐसे में पृथ्वी के नजदीक इन क्षुद्रग्रहों के आने से खतरा बढ़ जाता है।