[ad_1]

नई दिल्ली : कोरोना काल में एक्ट्रेस जूही चावला ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में वो एयरपोर्ट पर भीड़ में खड़ी नजर आ रही हैं। जूही वीडियो में एयरपोर्ट की स्थिति दिखाने की कोशिश कर रही हैं कि एयरपोर्ट पर कितनी भीड़ है और एयरपोर्ट के इंतजाम कैसे हैं। उन्होंने वीडियो शेयर करने के साथ एयरपोर्ट पर तुरंत एक्सट्रा काउंटर लगाने की बात कही, ताकि लोगों को दिक्कत का सामना न करना पड़े और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन हो सके।

ट्व‌िटर पर जूही ने की निंदा

ये भी पढ़ें …..

जूही चावला ने ट्वीट कर लिखा- एयरपोर्ट और सरकारी अधिकारियों से अनुरोध करें कि तुरंत एयरपोर्ट हेल्थ क्लीयरेंस में अधिक से अधिक अधिकारियों की तैनाती करें और काउंटर लगाएं… प्लेन से उतरने बाद सभी यात्री घंटों तक फंसे रहे… फ्लाइट आफ्टर, फ्लाइट आफ्टर, फ्लाइट… दयनीय, शर्मनाक स्थिति…

Request the Airport and Govt authorities to IMMEDIATELY deploy more officials and counters at the Airport Health clearance … all passengers stranded for hours after disembarking .. … flight after flight after flight …..Pathetic , shameful state [email protected]_Official pic.twitter.com/rieT0l3M54

— Juhi Chawla (@iam_juhi) November 11, 2020

ये भी पढ़ें ….

बताते चलें कि, देशभर में कोरोना की लहर के बावजूद धीरे-धीरे चीजें स्वभाविक हो रही है। सभी को सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हुए सावधानी बरतने की सलाह दी जा रही है। भीड़-भाड़ वाले सार्वजनिक स्थलों पर भी दूरी बनाई जा सके इसकी व्यवस्था करने का प्रयास किया गया है। एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन जैसी जगहों पर इसे लेकर सावधानी बतरने की ज्यादा जरुरत है। लेकिन एक्ट्रेस के द्वारा शेयर किए गए वीडियो में लोग सवाल उठा रहे हैं कि क्या वाकई प्रशासन की तरफ से पर्याप्त व्यवस्था की गई है।

जूही ने उठाया था प्लास्टीक पर सवाल

ऐसा नहीं है कि जूही चावला ऐसे मुद्दों को लेकर पहली बार वोकल हुई हैं। इससे पहले जूही तब खबरों में आई थीं, जब उन्होंने सोशल मीडिया पर घर पर सब्जियों की डिलीवरी को लेकर अपना एक्सपीरियंस शेयर किया था। लेकिन क्योंकि ये सभी सब्जियां प्लास्टिक में पैक होकर आई थी, ये देख जूही परेशान हो गई थी।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा था- कुछ इस अंदाज में सब्जियां मेरे घर पर डिलीवर की गई हैं। प्लास्टिक में डूबी हुईं। इन पढ़े-लिखे लोगों ने धरती का सबसे ज्यादा नुकसान किया है। समझ नहीं आ रहा है कि खुश होना है या रोना है।