देश में अगर लॉकडाउन को इस महीने के अंत में खत्म कर दिया जाए तो भी कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों को चरम पर पहुंचने में जुलाई के मध्य तक का समय लगेगा। यह दावा करते हुए एक नामी महामारी विशेषज्ञ ने मंगलवार को कहा कि चरम पर पहुंचने के बावजूद देश में पिछले दो महीने के दौरान किए गए रोकथाम के मजबूत उपायों के कारण संक्रमण के मामलों में ‘मामूली बढ़ोतरी’ ही दिखाई देने की संभावना है।

पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के प्रोफेसर डॉ. आर. बाबू ने कहा, वैश्विक स्तर के मुकाबले देश में कोविड-19 (कोरोना वायरस) से मरने वालों का चार्ट निश्चित तौर पर फिलहाल नीचे की तरफ जा रहा है। डब्लूएचओ के साथ करीब छह साल तक काम कर चुके डॉ. बाबू कर्नाटक में पोलियो संक्रमण के ट्रांसमिशन पर काबू करने के लिए जिम्मेदार रहे हैं। उन्होंने कहा, इसका मतलब है कि देश में वायरस स्थानांतरण पर बहुत हद तक काबू किया गया है।