भारत ने धीरे-धीरे कोरोना वायरस के लिए अपनी परीक्षण क्षमता को बढ़ा दिया है और एक दिन में 4.20 लाख से अधिक परीक्षण किए गए हैं। वहीं, मरने वाले लोगों की दर में भारी गिरावट आई है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, देश में एक ही दिन में सबसे ज्यादा 4.2 लाख से अधिक लोगों के नमूनों की जांच की गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा है कि प्रयोगशालाओं की संख्या में वृद्धि की वजह से यह संभव हो पाया। मंत्रालय ने बताया कि अब तक लगभग 1.6 करोड़ नमूनों का परीक्षण किया गया है। कोरोना से मरने वाले लोगों की दर में काफी कमी आई है। देश में कोरोना मृत्यु दर अब घटकर 2.35 फीसदी हो गई है।
भारत में जनवरी में बीमारी के लिए नमूनों के परीक्षण के लिए केवल एक प्रयोगशाला थी, लेकिन अब यह संख्या बढ़कर 1,301 हो गई है, जिसमें निजी प्रयोगशालाएं भी शामिल हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि आईसीएमआर द्वारा संशोधित दिशा-निर्देश और राज्यों द्वारा चौतरफा प्रयासों से व्यापक परीक्षण में सहायता मिली है।