भोपाल।भोपाल के जंगल में दो युवा बाघों ने अपनी अच्छी धाक जमा ली है। ये दूसरे बाघों को अपने क्षेत्र में फटकने नहीं दे रहे हैं। इन्हें सुअर और मवेशियों का शिकार करना पसंद है। इन बाघों का जन्म तीन साल पहले भोपाल सामान्य वन मंडल के समरधा के जंगल में हुआ था। इनमें से एक का नाम टी-1231 और दूसरे का नाम टी-1232 है। ये दोनों बाघिन टी-123 की संतान हैं। इन्हें मिलाकर बाघों का कुनबा 20 का हो गया है। जंगल में 18 बाघों का मूवमेंट पहले था। इनमें से ज्यादातर बाघों का मूवमेंट भोपाल से लेकर औबेदुल्लागंज और रातापानी वन्यजीव अभयारण्य के जंगल के बीच है।