मध्यप्रदेश में अबतक कोरोना वायरस के आठ हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं और 350 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इसके बाद आखिरकार प्रशासन ने माना है कि जब इसका प्रसार हो रहा था तब शायद हम इसे पहचान नहीं सके। सोमवार को इंदौर आए अपर मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) मोहम्मद सुलेमान ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि पूरे प्रदेश में संक्रमण का फैलाव इंदौर से हुआ है।

उन्होंने कहा कि ऐसा मानने की पर्याप्त जानकारी है। यहां से लोग कई जगहों पर गए। जिस तरह से यहां मरीज सामने आए हैं उससे लगता है कि फरवरी महीने में ही कोरोना का प्रसार शुरू हो गया था। हम तब इसे चिन्हित नहीं कर सके। हालांकि इंदौर की जनता ने बहुत कष्ट भोगकर इसका प्रबंधन किया है।
उन्होंने कहा कि जो इंदौर ने किया उसे अहमदाबाद, मुंबई नहीं कर सके। अपर मुख्य सचिव ने कहा कि हम हाथ जोड़कर आप सभी से अपेक्षा करते हैं कि अपना ख्याल रखें। हम लोहे की दीवार खड़ी नहीं कर सकते लेकिन स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाने, टेस्टिंग की क्षमता बढ़ाने में लगे हुए हैं।