नई दिल्लीः कोरोना के बढ़ते कहर के बीच रूस से एक अच्छी खबर आई है। रूस का कहना है कि उसने कोरोना की वैक्सीन का ट्रायल पूरा कर लिया है। अब दावा ये किया जा रहा है कि रूस की ये वैक्सीन 10 अगस्त तक मार्केट में आ जाएगी। इसके बारे में जानकारी देते हुए रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि उनके भरोसेमंद वैक्सीन का ट्रायल पूरा हो चुका है। वैक्सीन को गामालेया इंस्टीट्यूट ने बनाया है। इसके अलावा दो और कंपनियों ने क्लीनिकल ट्रायल करने की अनुमति मांगी है।

रूस की एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराश्को ने कहा कि गामालेया की वैक्सीन का ट्रायल पूरा हो चुका है। अब उसके वैज्ञानिकों पर यह निर्भर करता है कि वो वैक्सीन को बाजार में कब लाते हैं।

पिछले महीने मॉस्को स्थित गामालेया इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों ने ये दावा किया था कि वो अगस्त महीने में कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन को मंजूरी दी जा सकती है। यानी अगले दो हफ्तों में रूस कोरोना वायरस की वैक्सीन बाजार में ला देगा। रूसी अधिकारियों और वैज्ञानिकों ने मीडिया से बताया था कि वे वैक्सीन की मंजूरी के लिए 10 अगस्त या उससे पहले की तारीख पर काम कर रहे हैं।

गामालेया इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों का दावा है कि वे इस वैक्सीन को आम जनता के उपयोग के लिए 10 अगस्त तक मंजूरी दिलवा लेंगे। लेकिन सबसे पहले फ्रंटलाइन हेल्थवर्कर्स को दी जाएगी। रूस के सोवरन वेल्थ फंड के प्रमुख किरिल मित्रिव ने कहा कि यह ऐतिहासिक मौका है। जैसे हमने अंतरिक्ष में पहला सैटेलाइट स्पुतनिक छोड़ा था। यह वैसा ही मौका है। अमेरिका के लोग सुनकर हैरान रह गए थे स्पुतनिक के बारे में, वैसे ही इस वैक्सीन के लॉन्च होने से वे फिर हैरान होने वाले हैं।

हालांकि, रूस ने अभी तक वैक्सीन के ट्रायल का कोई डेटा जारी नहीं किया है। इस वजह से इसकी प्रभावशीलता के बारे में टिप्पणी नहीं की जा सकती है। कुछ लोग इस बात की आलोचना भी कर रहे हैं कि वैक्सीन जल्द बाजार में लाने के लिए राजनीतिक दबाव है। इसके अलावा वैक्सीन के अधूरे ह्यूमन ट्रायल पर भी सवाल उठ रहे हैं। दुनियाभर में दर्जनों वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। कुछ देशों में वैक्सीन का ट्रायल तीसरे चरण में हैं, रूसी वैक्सीन को अपना दूसरा चरण पूरा करना बाकी है। वैक्सीन के डेवलपर ने 3 अगस्त तक इस चरण को पूरा करने की योजना बनाई है।