राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने बुधवार को उच्च सदन के नवनिर्वाचित 61 सदस्यों में से 45 को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। कोविड-19 महामारी के कारण अंतर सत्र के दौरान शपथ ग्रहण समारोह राज्यसभा के चैंबर में आयोजित किया गया।

इस दौरान सदन में एक दिलचस्प तस्वीर देखने को मिली। दरअसल, अक्सर एक-दूसरे पर बयानों के तीर चलाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह का राज्यसभा में आमना-सामना हुआ। दोनों ही नेताओं ने मास्क पहना हुआ था। जब दोनों नेता एक-दूसरे के आमने-सामने आए तो दोनों ने एक-दूसरे के सामने हाथ जोड़कर अभिवादन किया।
दोनों नेता जब एक दूसरे का अभिवादन स्वीकार रहे थे उस वक्त वहां राज्यसभा में नेता विपक्ष और कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद भी मौजूद थे। गुलाम नबी आजाद भी हाथों से कुछ इशारा करते हुए दिखाई दिए। तस्वीरों में देखा जा सकता है कि आजाद भी हाथों से कुछ इशारा कर रहे हैं।

गौरतलब है कि इसी साल सिंधिया ने कांग्रेस का हाथ छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। इसके बाद सिंधिया और दिग्विजय के बीच काफी जुबानी जंग हुई थी। जहां सिंधिया ने कमलनाथ सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला वहीं, दिग्विजय खुलकर कमलनाथ के पक्ष में उतर गए । बताया जाता था कि सिंधिया की बगावत के पीछे एक वजह राज्यसभा सीट भी थी, जिस पर दिग्विजय को चुना गया।