बीते दिन शाम को काबुल एयरपोर्ट पर बम धमाका हुआ जिसमें करीब 13 लोगों की मौत हुई। आज उस आतंकी की पहचान हो गई है जिसनें इस हमले को अंजाम दिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार,आतंकी अब्दुल रहमान अल लोघरी आईएसआईएस-हक्कानी आंतकी संगठन का आतंकी है।
अमेरिका ने अलर्ट जारी किया है। काबुल एयरपोर्ट पर गुरुवार को हुए दो आत्मघाती बम धमाकों के बाद आज फिरसे एक नया अलर्ट किया गया है।अमेरिका ने आशंका जाहिर की है कि आतंकी कार बम से जल्द ही एक और धमाका करने की फिराक में हैं। काबुल एयरपोर्ट के नॉर्थ गेट पर कार बम से ब्लास्ट किया जा सकता है। ख़बरों की मानें तो,अमेरिका ने काबुल में अपने सैनिकों व नागरिकों को अलर्ट कर दिया है। आज अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह का बयान आया है। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है कि तालिबान और हक्कानी नेटवर्क की जड़ आईएस जैसा आतंकी संगठन ही है। तालिबान भले ही आईएस से गठजोड़ पर का इंकार करता रहे, लेकिन हमारे पास इसके सारे सबूत हैं। तालिबान ठीक वैसे ही आईएसआईएस से संबंध होने का इंकार कर रहा है, जैसे पाकिस्तान क्वेटा शूरा के लिए करता आया है। 

आज ये खबर भी मिल  रही है कि आगामी 30 अगस्त की शाम तक अमेरिका का झंडा झुका रहेगा। ध्वज काबुल में हुए बम धमाके में 12 अमेरिकी सैनिकों की मौत हो गई है, वहीं 18 से अधिक घायल हैं। इन शहीदों के सम्मान में 30 अगस्त की शाम तक अमेरिकी झंडा झुका रहेगा। काबुल धमाके पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने दिया बयान। कहा- हम माफ नहीं करेंगे। हम नहीं भूलेंगे। हम तुम्हें ढूंढेंगे और इसका पूरा हिसाब बराबर करेंगें। अफगानिस्तान से अमेरिकी नागरिकों को निकालेंगे।उन्हें यहाँ से सुरक्षित निकालेंगें . 

 ट्रम्प ने भी जताया शोक- राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने काबुल धमाके पर बोला है कि इस तरह की दुखद घटना बिल्कुल नहीं होनी चाहिए थी।आपको बतादें कल हुए दोनों बम धमाकों की जिमेदारी  इस्लामिक स्टेट ने ली है। आतंकी संगठन ने अपने टेलीग्राम अकाउंट पर हमले की जिम्मेदारी ली है। इसी बीच काबुल में एक और धमाके की आवाज आई है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here